प्रमुख कीट

टमाटर में रोपाई से लेकर फसल की कटाई तक बड़ी संख्या में कीटों और रोगों द्वारा किया जाता है । कीड़े जैसे फल छेदक, माहू, सफेद मक्खी, पत्ती खनिक, बदबूदार कीड़े और मकड़ी के कण उपज को कम करते हैं अपितु ये टमाटर पत्ती कर्ल वायरस जैसे संयंत्र रोगों को फैलने में  मदद करते हैं ।

 

टमाटर फल छेदक

वयस्क: स्टाउट, मध्यम आकार, अग्रपंख के केंद्र के मध्य में गहरे धब्बे होते हैं । पिछले पंख पीले रंग के, साथ में ही काले भूरे रंग की सीमा एवं पीले रंग का मार्जिन पाया जाता है ।

अंडे: वयस्कों द्वारा भूरे-पीले रंग के, बाह्यदलपुंज तथा नवींतम फलों पर खूबसूरती से उकेरे हुए अंडे देते हैं। अंडे 3-4 दिन में अण्डे फूटते हैं तथा नवजात शिशु आरंभ में ताजा हरे ऊतकों को खाते हैं तथा बाद मे फलों में छेद करा देते हैं ।

लार्वा: लार्वा छेद के दूसरी ओर फल के पीछे अंत में एक छेद करते हैं । पूर्ण विकसित लार्वा की विशेषता सफेद रंग के साथ काले भूरे रंग की अनुदैर्ध्य धारियों दिखाई देती हैं ।

प्यूपा: प्यूपीकरण मिट्टी के अंदर होता है।

क्षति की प्रकृति

सबसे हानिकारक चरण युवा लार्वा होता है । अंडे सेने पर लार्वा मुलायम पत्ते पर हमला करते हैं तथा बाद के चरण में फलों पर आक्रमण करते हैं । एक लार्वा 2-8 फल नष्ट करने में सक्षम है। ऐसे फल उपभोक्ताओं द्वारा पसंद नहीं किये जाते हैं। फल पर किए गए छेद गोल होते हैं और केवल छेद के अंदर ऊपरी हिस्से को ही खाते हैं । पर्याक्रमण हरे फल पर अधिक है और अम्लता बढ़ जाती है और ये फल धीरे-धीरे कम पसंद किए जाते हैं ।

प्रबंधन

  • 40 दिन पुराने अमेरिकी लंबा गेंदा और 25 दिन पुरानी टमाटर की पौध को 1:16 के अनुपात में पंक्तियों में एक साथ बोयें। मादा पतंगे अण्डे देने के लिए गेंदे की ओर आकर्षित होती हैं ।
  • प्रकाश जाल की स्थापना से वयस्क पतंगों को मारने के लिए आकर्षित किया जा सकता है ।
  • फेरोमोन जाल की स्थापना एक हेक्टेयर में 12 करनी चाहिए।
  • क्षतिग्रस्त फलों को इकट्ठा करके नष्ट कर देना चाहिए ।
  • प्रारंभिक दौर लार्वा को मारने के लिए 5% नीम के बीज गिरी के तेल का छिड़्काव करें। प्रति हेक्टेयर (‘टी’ आकार के) 15-20 पक्षियों के बैठने के लिए रखना चाहिए जो कीटभक्षी पक्षियों को आमंत्रित करने में मदद करता है ।
  • फल छेदक से संरक्षण के लिए 250 एल ई / हेक्टेयर के साथ साथ 20 ग्राम / लीटर गुड़ का 10 दिनों के अंतराल पर छिड़काव भी लाभदायक होता है ।
  • अंडा परजीवी जैसे ट्राइकोग्रामा सिलोनिस को 50,000 / हेक्टेयर / सप्ताह की दर से छह बार जारी करना चाहिए और पहले रिलीज फूल समय के साथ मिलनी चाहिए ।
  • पानी का बेसिलस थुरिंजेंसिस 2 ग्रा / लीटर या फ्लूबेंडिएमाइड 20 डब्ल्यू जी 5 ग्रा / 10 लीटर या इंडोक्साकार्व5 एस सी 8 मिली / 10 लीटर की दर से छिड़काव करना चाहिए ।

टेढ़ा पत्ता खान

वयस्क छोटे धातुनुमा मक्खियाँ पत्ता की सतह पर छेद करके एसएपी खिलाती है। यह पत्तियों के बाहरी मार्जिन पर अंडे देता है। 2-3 दिनों के भीतर, श्वेताभ कीड़ों इन अंडे से बाहर आते हैं और मिट्टी में 6-10 दिनों में और कभी कभी पत्ती की सतह पर कोषस्थ धारण करना शुरू कर देते हैं । ये भुनगे  एपिडर्मिस के बीच चक्करदार सुरंगें बनाकर खाना शुरू करा देते हैं ।

प्रबंधन

  • नर्सरी में टेढ़ी पत्तियों के दिखने पर इन्हें हाथ द्वारा नष्ट कर देना चाहिए ।
  • रोपण के 15-20 दिनों बाद क्षेत्र में नीम के बीज पाउडर 4% या नीम साबुन 1% का छिड़काव करना चाहिए ।
  • घटना उच्च है अगर खुली परिस्थितियों में, अगर संक्रमण अधिक है तो संक्रमित पत्तियों को हटा दें और ट्राइजोफोस 40 ई सी (1 मिली) 5 ग्राम नीम / लीटर के साथ मिश्रित करके छिड़काव करें ।
  • संरक्षित जगहों पर सिंथेटिक कीटनाशकों के लगातार छिड़काव करने से बचें। अगर आवश्यकता है तब डेल्टामेथ्रिन8 ई सी 1 मिली /लीटर या साइपरमेथ्रिन 25 ई सी 0.5 मिली / लीटर या ट्राइजोफोस 40 ई सी 2 मिली / लीटर की दर से छिड़काव किया जा सकता है ।

सफेद मक्खी

वयस्क: वयस्क लगभग 1 मिमी लंबे, पुरुष महिला से थोड़ा छोटे होते हैं। शरीर और पंखों के दोनों जोड़े रंग में थोड़ा पीले रंग लिए सफेद एक ख़स्ता, मोमी स्राव जैसे होते  हैं ।

अंडे: अंडे आधार पर एक डंडी कील के साथ नाशपाती के आकार के हैं, लगभग 0.2 मिमी लंबे होते हैं ।

प्यूपा: चपटे, अनियमित अंडाकार आकार के, लगभग 0.7 मिमी लंबे, एक जैसे बढ़ाना, त्रिकोणीय छिद्र वाले होते हैं । एक चिकनी पत्ते पर प्यूपे  दिखाई नहीं देते हैं लेकिन अगर पत्ती बालों वाली है तो 2-8 लंबे पृष्ठीय बालनुमा मौजूद होते हैं ।

नुकसान की प्रकृति

सफेद मक्खियों द्वारा अर्क चूसने और संयंत्र पोषक तत्वों को हटाने के कारण पौधे कमजोर हो जाते हैं और यह प्रत्यक्ष नुकसान होता है। अगर पौधों के आस-पास पानी भरा हुआ है तो नुकसान और अधिक गंभीर हो सकता है। सफेद मक्खी (बेमिसिआ टबैकी) बायोटाइप 'बी' टमाटर पत्ती कर्ल वायरस के संक्रमण और संचारित होने से  फसल के पूर्णरूप से नुकसान होने का खतरा हो जाता है ।

प्रबंधन

  • वयस्क को आकर्षित करने के लिए 12 / हेक्टेयर की दर से पीला चिपचिपा जाल स्थापित करें ।
  • ऐबूटीलोन इंडीकम नामक वैकल्पिक मेजबान खरपतवार को निकालें ।
  • सफेद मक्खी पत्ती कर्ल वायरस के प्रसार करने में वेक्टर के रूप में कार्य करती हैं, सभी प्रभावित पौधों को आगे प्रसार से बचाने के लिए उखाड़कर निकाल देना चाहिए ।
  • कार्बोफ्यूरान 3 जी (40 किग्रा /हेक्टेयर) को खेत में डालें या  डाइमेथोएट 30 % ई सी 1 मिली / लीटर या मैलाथिओन 50 ई सी 1.5 मिली / लीटर का छिड़काव करें ।

माहू 

नरम शरीर, नाशपाती के आकार कीड़े, पेट से फैलने वाला एक पुच्छ की के साथ एक जोड़ी गहरे शंक्वाकार पंखों वाला या पंखहीन हो सकता है आमतौर पर पंखहीन रूप में ही होता है ।  झुंड मे खाना, मलिनकिरण या पत्ते को मोड़ना तथा शहद्नुमा पदार्थ छोड़ता है जिस पर मोल्ड बढ़ता है ।

प्रबंधन

  • इमीडाक्लोप्रिड 200 एस एल 5 मिली / लीटर या डाइमेथोएट 30 ई सी 1 मिली /लीटर की दर से छिड़काव करना चाहिए ।

मकड़ीनुमा लाल घुन

मकड़ी जैसे लाल रंग का घुन, पत्ते के नीचे धागेनुमा आकृति बनाकर उसका रस चूसती है । जिससे पत्ते का ऊपरी भाग पीलेरंग जैसा दिखाई देता है । बाद में पत्ता मुड़कर पूरी तरह से सूख जाता है । जिससे पैदावार पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ता है । यह कीट गर्म आर्द्र जलवायु में अधिक सक्रिय हो जाता है।  

प्रबंधन

  • डाइकोफाल (केल्थेन) 18.5 ई सी 2 मिली / लीटर का पत्ते के ऊपर व नीचे छिड़काव करने से कीट मर जाता है ।

प्रमुख रोग

कमर तोड़ (पौधशाला)

सामान्यत: “कमरतोड़" पौधशाला में पौध की मौत के लिए एक सामान्य शब्द है, ये अत्यधिक गीलापन होने के कारण पौधों के उगने के तुरंत बाद या कुछ दिन बाद शुरू होती है । मुख्य रूप से यह अगेती मौसम की ठंडी गीली मिट्टी में होने वाली सबसे खतरनाक  समस्या है । यह एक कवक रोग है जो सभी प्रकार की मिट्टी में हो सकता है जहाँ टमाटर वर्गीय फसलें उगायी जाती हैं और जहां मिट्टी गीला है वहाँ पर ये टमाटर को भी संक्रमित कर सकते हैं । हालांकि संक्रमण, ठंडे मौसम में अधिक रहता है परंतु फाइटोफ़्थेरा और राइजोक्टोनिआ भी गर्म मौसम में पौधों को संक्रमित कर सकते हैं । टमाटर के अंकुर दो या तीन पत्ती के स्तर तक पहुँच जाने के बाद पिथियम या राइजोक्टोनिआ द्वारा संक्रमण की कोई संभावना नहीं होती है किंतु फाइटोफ्थेरा किसी भी स्तर पर टमाटर के पौधों को संक्रमित कर सकते हैं । हरी खाद के रूप में ऐसे स्वयंसेवक अनाज पौध लगाने से पहले मिट्टी में मौजूद रहते है तो वहाँ पर पिथिअम द्वारा कमरतोड़ वृद्धि हो सकती है ।

कमरतोड़ से प्रभावित पौध उगने से पहले या तुरंत बाद गिर कर खत्म हो जाती है । कमरतोड़ आम तौर पर जल निकासी ना होने से या उन क्षेत्रों में जहाँ की मिट्टी  कठोर होती है अथवा पानी खड़ा हो जाता है तथा पौधरोपण के तुरंत बाद अत्यधिक पानी के सम्पर्क में आने से आती है । जरूरी नहीं कि यह बीमारी एक मौसम  से दूसरे मौसम जाय, लेकिन जब परिस्थितियाँ अनुकूल हो जाती हैं तो इसके संक्रमण का खतरा बढ़ जाता है ।

प्रबंधन

  • उचित नर्सरी प्रक्षेत्र की तैयारी और अच्छा जल निकास प्रबंधन से काफी इस बीमारी को कम किया जा सकता है । अंकुरण के लिए छिड़काव विधि का उपयोग करके तथा पानी के बेहतर नियंत्रण रखने से संक्रमण की संभावना कम हो जाती है ।
  • ट्राइकोडर्मा विरडी (4 ग्राम/किग्रा) या स्यूडोमोनास (10 ग्राम/किग्रा) से बुवाई से 24 घंटे पहले बीज को उपचारित करें ।
  • स्यूडोमोनास फ्लूओरेसेंस को गोबर की खाद के साथ (5 किलो/50 किलो प्रति हेक्टेयर) मिश्रित कर  मिट्टी में मिलायें । पानी के ठहराव से बचा जाना चाहिए । कॉपर ओक्सीक्लोराइड (2.5 ग्राम/लीटर) से एक वर्ग मीटर क्षेत्र को भिगोयें ।

टमाटर का पत्ता धब्बा रोग

बैक्टीरियल धब्बा रोगज़नक़ पौधे के सभी भागों पर घावों का उत्पादन कर सकते हैं जैसे पत्तियों, तन, फूल और फल । प्रारंभिक पत्ती पर लक्षण एक पीले रंग की प्रभामंडल से घिरा हो सकता है, जो छोटे, गोल से अनियमित, गहरे घावों जैसे होते हैं । घाव, पत्ती के किनारों और अग्र भाग  पर 3-5 मिमी व्यास के आकार में वृद्धि करते हैं । प्रभावित पत्तियां पर एक झुलस जैसी दिखाई देती है । स्पॉट अनेक हो जाते हैं तथा जब पत्ते पीले रंग बदल जाते हैं और अंत में पौधे के निचले हिस्से के पतझड़ होकर पौधा मर जाता है ।

आरम्भ में फलों के घावों केवल हरे फल पर शुरू कर होते हैं, अपरिपक्व फलों (जिनपर बाल पाये जाते हैं) पर संक्रमण की सबसे अधिक संभावना रहती हैं । फल पर पहला लक्षण छोटे गहरे भूरे रंग से काले धब्बे बनना शुरू होते हैं । घाव चिड़िया की आँख जैसे धब्बों के साथ जीवाणु कर्क की तरह सफेद हेलो हो सकता है । फलों की उम्र के साथ-साथ सफेद हेलो गायब हो जाते हैं । इसके विपरीत, बैक्टीरियल नासूर फल घावों के सफेद हेलो बनाए रखते हैं । बैक्टीरियल घावों का व्यास 4-6 मिमी के आकार में भूरा चिकना और कभी-कभी रूखा हो सकता है ।

उखटा रोग

फ्यूजेरिअम उखटा कवक जनित रोग है जो आरम्भिक जड़ों  के माध्यम से पूरे पौधों को संक्रमित करता है । इससे संक्रमित पौधों की शाखाओं और पत्ते पीले हो जाते हैं । कभी-कभी एक शाखा या पौधे के एक तरफ का भाग प्रभावित हो जाता है । संक्रमित पौधे अक्सर मर जाते हैं । एक गहरे भूरे रंग की संवहनी मलिनकिरण तने तक फैल जाती है । लक्षण अक्सर पहली फलत के दौरान प्रकट होते हैं ।  

प्रबंधन

  • नर्सरी बेड की तैयारी से पहले मिट्टी को अच्छे से धूप लगायें ।
  • पहले बीज को स्यूडोमोनास फ्लोरसेंस (पीएफ) (10 ग्राम/किग्रा) के साथ उपचार करे ।
  • बाद में पीएफ 1 (20 ग्रा/वर्ग मीटर) नर्सरी में डालें बाद में पौध को लगाने से पहले पीएफ 1 (5 ग्रा/लीटर) में डुबोएं तथा भूमि में (50 किलो गोबरकी खाद में  5 किलो पीएफ 1 को मिलाकर प्रति हेक्टर) रोपाई के 30 दिनों के बाद में डालें ।

टमाटर का पत्ता मोड़क

संक्रमित टमाटर का पौधा शुरू में छोटे क़द का और सीधा दिखता है बाद में गंभीर संक्रमित पौधों में वृद्धि कम होती है और दूसरे पौधों की अपेक्षा बहुत छोटा रह जाता है । हालांकि, सबसे नैदानिक लक्षण पत्तियों में होते हैं । संक्रमित पौधों की पत्तियों छोटी होती हैं और ऊपर की ओर मुड़ी पीली दिखाने लगती हैं । संक्रमित पौधों की आंतरिक गाँठें का अवरुद्ध विकास के साथ-साथ, कम बढ़वार बौना दिखाई देता है । जिसकी वृद्धि अक्सर 'बोन्साई' या ब्रोकोली' की तरह हो जाती है । आमतौर पर संक्रमित पौधों पर गठित फूल विकसित नहीं हो पाते हैं और गिर जाते हैं । अगर पौधों में संक्रमण जल्दी हो जाता है तो फल उत्पादन नाटकीय रूप से बहुत ही कम हो जाता है, और यह भारी संक्रमण पौधों के साथ क्षेत्रों में 100% नुकसान होने के लिए असामान्य नहीं है ।

प्रबंधन

  • सभी संक्रमित पौधों को निकाल देना चाहिए और आगे फैलने से बचने के लिए इन्हें नष्ट कर देना चाहिए ।
  • जलाई मिथाइल डेमोटान या डाइमेथोएट जैसे प्रणालीगत कीटनाशक का 2 मिली / लीटर की दर से कीट वेक्टर, सफेद मक्खी को मारने के लिए छिड़काव करना चाहिए ।

टमाटर धब्बा उखटा विषाणु

टमाटर धब्बा उखटा विषाणु द्वारा संक्रमित पौधों की युवा पत्तियों के ऊपरी पक्षों के ऊपर पीलापन जैसा दिखाई देता है जो बाद में परिगलित धब्बा जैसा विकसित हो जाता है । पत्तियां नीचे की तरफ मुड़ सकती हैं जो सूखने जैसी हो सकती हैं । पके हुआ फलों पर अक्सर क्लोरोटिक और उठे हुए धब्बे जैसा गहरे छल्ले के साथ दिखाई देते हैं । हरे फल के गहरे क्षेत्रों में थोड़ा उठा हुआ भाग दिखता है ।

प्रबंधन

  • कर्बोफ्यूरान 3 जी को नर्सरी में बुआई के समय (33 किग्रा / हेक्टेयर) तथा मुख्य क्षेत्र में (40 किग्रा / हेक्टेयर) रोपाई के 10 दिन बाद प्रयोग करना चाहिए ।
  • फोसालोन 35 ई सी (5 मिली / लीटर) का रोपाई के 25, 40, 55 दिनों में तीन छिड़काव करने चाहिए ।

मूंगफली का कली गलन विषाणु

प्रबंधन

  • केवल स्वस्थ पौध का ही चयन करना चाहिए और मूंगफली का कली गलन विषाणु से संक्रमित पौधों को रोपण के 45 दिनों के अंदर उखाड़ कर नष्ट देना चाहिए ।
  • कर्बोफ्यूरान 3 जी (1 किग्रा ए.आई. / हेक्टेयर) को नर्सरी में तथा दोबारा 1.25 किग्रा रोपाई के बाद मुख्य क्षेत्र में डालना चाहिए ।
  • डाइमेथोएट 30 ई.सी. (0 मिली / लीटर) या मिथाइल डेमेटोन 25 ई.सी. (1.0 मिली / लीटर) या फोस्फोमिडान (1.0 मिली / लीटर) का रोपाई के 25, 40 तथा 55 दिनों में तीन छिड़काव करने चाहिए ।

अगेती झुलसा

अगेती झुलसा से संक्रमित के कारण पत्ते, तने और फल पर 0.25 से 0.5 इंच (6-12 मिमी) वृत्ताकार में छोटे काले या भूरे रंग के धब्बे विकसित हो जाते हैं । पत्ते पर धब्बे कठोर होते हैं और अक्सर एक गहरे अंगूठीनुमा दिखते हैं । वे आम तौर पर पहले पुरानी पत्तियों पर दिखाई देते हैं । फल पर धब्बे शुष्क, धँसे हुए गहरे  होते हैं अक्सर वे फल की बाह्यदलपुंज के अंत के पास होते हैं ।

प्रबंधन

  • प्रभावित पौधे के भागों का संग्रह करके नष्ट कर देना चाहिए ।
  • डाइथेन एम 45 (2.5 ग्रा/लीटर) या क्लोरोथोलोनिल 25 ड्ब्ल्यू पी (कवच) का 2 ग्रा/लीटर का छिड़काव करना चाहिए ।

पछेती अंगमारी

पत्ते पर पछेती अंगमारी के लक्षण सबसे पहले छोटे, पानी से लथपथ क्षेत्रों में दिखाई देते हैं जो तेजी से बैंगनी-भूरे रंग, तेल से दिखने वाले धब्बों के रूप में दिखाई देते हैं । पत्तियों के निचले हिस्से की ओर भूरा सफेद फुई और बीजाणु के गठन संरचनाओं के छल्ले धब्बों के चारों ओर दिखाई दे सकते हैं । पूरे पत्ते सूख जाते हैं और संक्रमण जल्दी से पर्णवृन्त और युवा तने में फैल जाता है । संक्रमित फल भूरे रंग का हो जाता है लेकिन माध्यमिक क्षय जीवों से संक्रमित रहते हैं; आमतौर पर लक्षण फल के ऊपरी भाग से शुरू होकर भूमि की तरफ बढ़ता है ।

प्रबंधन

  • डाइथेन एम 45 (2.5 ग्रा/लीटर) या क्लोरोथोलोनिल 25 ड्ब्ल्यू पी (कवच) का 2 ग्रा/लीटर या डाइमेथोमोर्फ 50 ड्ब्ल्यू पी (एक्रोबेट) 1.0 ग्रा/लीटर का छिड़काव करना चाहिए ।

Authors:

प्रसन्नाकुमार एन.आर., संदीप कुमार जी.एम. और *राम सिंह सुमन

*Sr. Scientist (Agril. Extension)
IARI Regional Station, Katrain
Kullu Valley, H.P. - 175129

Email: This email address is being protected from spambots. You need JavaScript enabled to view it.