Biopesticides: An Eco-friendly Tool for Crop Production



जैव-कीटनाशक पारिभाषिक शब्द उन यौगिकों को परिभाषित करता है जो कि व्यापक रासायनिक कीटनाशकों के बजाय विशिष्ट जैविक प्रभाव के माध्यम से कृषि कीटों का प्रबंधन करने के लिए उपयोग किये जाते है।

यह जैव नियंत्रण घटकों - यानी प्राकृतिक जीवों या प्राकृतिक सामग्री (जैसे कि जानवरों, पौधों, बैक्टीरिया, या कुछ खनिजों) से उत्पन्न पदार्थों को संदर्भित करता है, जिनमें उनके जीन या चयापचय पदार्थ शामिल हैं, जो कि कीटनाशकों को नियंत्रित करने के लिए उपयोग मे लिए जाते हैं।

एफ.ए.ओ. की परिभाषा के अनुसार, जैव कीटनाशकों में वो जैव नियंत्रण घटक शामिल होते हैं जो निष्क्रिय घटक हैं जो कि जैव नियंत्रण घटकों जैसे कि पैरासिटोइड, शिकारी, और कीट रोगजनक निमेटोड की कई प्रजातियां के विपरीत सक्रिय रूप से कीटों (हानिकारक जीव) की तलाश करते हैं।

जैव कीटनाशकों के प्रकारः

1. सूक्ष्मजीव कीटनाशकः

अमेरिकी पर्यावरण संरक्षण संस्था (ईपीए) कि परिभाषा के अनुसार जैव कीटनाशक इस तरह के कीटनाशक हैं जो कुछ निश्चित प्रकार के प्राकृतिक जीवों जैसे  पशु, पौधे एवं  जीवाणुओं तथा  कुछ खनिजों से  प्राप्त  होते हैं। सूक्ष्मजीव कीटनाशकों में सक्रिय संघटक के रूप में एक सूक्ष्मजीव, जीवाणु, कवक, विषाणु, प्रोटोजोएन या शैवाल होते हैं।

सूक्ष्मजीव कीटनाशक कई अलग-अलग प्रकार की कीटों को नियंत्रित कर सकते हैं। इन सूक्ष्मजीव जैव कीटनाशकों के अलग-अलग सक्रिय संघटक लक्ष्य कीट के लिए अपेक्षाकृत विशिष्ट होते हैं। उदाहरण के लिए, कुछ कवक निश्चित खरपतवारों  को नियंत्रित करते हैं, और अन्य कवक  विशिष्ट कीड़े को मारते हैं।

वे कीट के लिए विशिष्ट विष, जो कीटों में एक बीमारी उत्पन्न करते हैं, के उत्पादन के  द्वारा, प्रतियोगिता या अन्य क्रियाओं के माध्यम से,  सूक्ष्मजीवों की स्थापना को रोक कर कीट का अवरोधन करते हैं।

सबसे व्यापक रूप से ज्ञात सूक्ष्मजीव कीटनाशकों में जीवाणु बैसिलस थुरिंजेंसिस या बीटी की प्रजातियां हैं, जो गोभी, आलू और अन्य फसलों में कुछ कीड़ों को नियंत्रित कर सकती हैं।

सूक्ष्मजीव कीटनाशकों को लगातार निगरानी करने की आवश्यकता होती है ताकि यह सुनिश्चित हो सके कि ये शुक्षमजीव-कीटनाशक इंसानो सहित गैर-लक्षित जीवों को नुकसान पहुँचाने मैं सक्षम तो नहीं हो गए है ।

2. पादप समाविष्ट संरक्षक (पीआईपी):

पादप समाविष्ट संरक्षक, वह कीटनाशक पदार्थ हैं जो कि पौधे में जोड़े गए आनुवांशिक पदार्थ के द्वारा पौधों में उत्पन्न होते हैं। उदाहरण के लिए, वैज्ञानिक बीटी कीटनाशक प्रोटीन के लिए जीन ले सकते हैं, और जीन को पड़े कि अपनी अनुवांशिक सामग्री में समाविष्ट कर सकते हैं। फिर बीटी जीवाणु के बजाय पौधा , कीटनाशक को नष्ट करने वाले पदार्थ का निर्माण करता है।

3. जैव रासायनिक कीटनाशकः

जैव रासायनि‍क कीट नाशक , प्राकृतिक पदार्थों पर आधारित कीटनाशक होते हैं जोकि उन रासायनिक कीटनाशकों, जिनमे संश्लेषिक अणु होते हैं और जोकि सीधे कीट को मारते हैं के विपरीत गैर-विषैले तंत्र द्वारा कीटों को नियंत्रित करते हैं।

जैव-रासायनिक कीटनाशकों में विभिन्न जैविक रूप से कार्यात्मक वर्ग शामिल हैं, जिनमें फेरोमोन और अन्य अर्ध-रसायन, पौधे के अर्क और प्राकृतिक कीट वृद्धि नियामक शामिल हैं।

जैव-कीटनाशकों के विकास को प्रभावित करने वाले कारकः

  • प्रभाव में कम स्थिरता के कारण कम विश्वसनीयता
  • लक्षित विशिष्टता जो कि किसानों को विचलित करती है
  • संश्लेषिक कीटनाशकों की तुलना में धीमी क्रिया
  • छोटी जीवनावधि
  • बाजार में जैव कीटनाशकों की अस्थिर उपलब्धता
  • रासायनिक कीटनाशकों के पहले से ही स्थापित और मजबूत बाजार
  • रासायनिक कीटनाशकों के लिए अनुकूल विनियामक प्रणाली

जैव कीटनाशकों का उपयोग करने के लाभः

कृषि और सार्वजनिक स्वास्थ्य कार्यक्रमों में जैव कीटनाशकों का उपयोग करने के संभावित लाभ विचारणीय हैं। जैव-कीटनाशकों में अवशिष्ट समस्या नहीं होती है जो कि उपभोक्ताओं के लिए महत्वपूर्ण चिंता का विषय है।

आईपीएम के एक घटक के रूप में, जैव-कीटनाशकों की प्रभावकारिता परंपरागत कीटनाशकों के बराबर हो सकती है। प्रदर्शन और पर्यावरण सुरक्षा के संयोजन से, जैव कीटनाशक न्यूनतम आवेदन प्रतिबंध के लचीलेपन, और बेहतरीन प्रतिरोध प्रबंधन क्षमता के साथ प्रभावी ढंग से प्रदर्शन करते हैं। जैव कीटनाशकों में रुचि उत्पादों के साथ जुड़े फायदे पर आधारित है, जो इस प्रकार है:

  • स्वाभाविक रूप से कम हानिकारक और पर्यावरण सुरक्षित
  • लक्ष्य विशेष
  • अक्सर रासायनिक कीटनाशकों की तुलना में बहुत कम मात्रा में प्रभावी
  • प्राकृतिक रूप से और जल्दी से विघटित होने मैं सक्षम
  • आईपीएम के एक घटक के रूप में उपयोग करने योग्य

कीटनाशक अधिनियम, 1968 के तहत पंजीकृत जैव-कीटनाशक :

  • बेसिलस थुरिंजेंसिस इस्राएलेंसिस
  • बेसिलस थुरिंजेंसिस कुरसताकी
  • बेसिलस थुरिंजेंसिस गल्लेरिए
  • बेसिलस सफैरिंक्स
  • ट्रायकोडर्मा विरिडी
  • ट्रायकोडर्मा हरजिअनुम
  • स्यूडोमोनास फ्लुओरेसेंस
  • ब्यूवेरिया बासियाना
  • हेलिकोवेर्पा आर्मिजरा के एनपीवी
  • स्पोडोप्टेरा लिट्यूरा के एनपीवी
  • नीम आधारित कीटनाशक
  • सिम्बोपोगान

जैव-कीटनाशकों की व्यापकताः

जैव कीटनाशकों की मुख्य विशेषता, पर्यावरण हितेच्छा और आसान जैव निम्नीकरण है जिससे कम कीटनाशकों के अवशेष एवं काफी हद तक रासायनिक कीटनाशकों के साथ जुड़े प्रदूषण समस्याओं से बचा जा सकता है।

इसके अलावा,  एकीकृत कीट प्रबंधन (आईपीएम) कार्यक्रमों के एक घटक के रूप में जैव कीटनाशकों का उपयोग परंपरागत (रासायनिक) कीटनाशकों के उपयोग में काफी कमी कर सकता हैं, जबकि लगभग समान स्तर की फसल उपज भी प्राप्त होती है।

हालांकि, जैव कीटनाशकों का प्रभावी उपयोग करने के लिए , विशेष रूप से अंतिम उपयोगकर्ताओं द्वारा कीटों के प्रबंधन के बारे में बहुत कुछ समझने की आवश्यकता है। उत्पादन और व्यावसायीकरण के संदर्भ में जैव-कीटनाशक कम शोध व्यय, उत्पाद विकास की गति और साथ ही लचीला पंजीकरण प्रक्रिया में रासायनिक कीटनाशकों से श्रेष्ठ है।

तालिका 1: जैव-कीटनाशकों के रूप में वानस्पतिक उत्पादः

जैव कीटनाशक के रूप में प्रयुक्त वानस्पतिक उत्पाद

लक्ष्य कीट

नीम उत्पाद (बीज का तेल, पत्ती का अर्क आदि) चूसने एवं चबाने वाले कीट
पायरेथ्रम / पायरेथरिंस             चींटियां, एफिड, पिस्सू, मक्खियां एवं चीचड़ी
लिमोनिन और लिनालूल पिस्सू, एफिड घुन, कई प्रकार की मक्खियां, कागज ततैया और घर के झींगुर
रोटेनॉन   पत्ती खाने वाले कीड़े, एफिड, बीटल (शतावरी बीटल, कोलोराडो आलू बीटल, ककड़ी बीटल, स्ट्रॉबेरी लीफ बीटल, और अन्य), कैटरपिलर, एवं जानवरों पर पिस्सू और जूँ
सबडिल्ला कर्कश कीड़े, थ्रिप्स, कैटरपिलर, लीफ होपर, और दुर्गन्ध कीड़े
रायणिया कैटरपिलर (यूरोपीय मकई बेधक) और थ्रिप्स

जैव-कीटनाशकः उत्पादकों के लिए अवसर और चुनौतियां

जैव-कीटनाशक उत्पाद, उत्पादकों के लिए कई महत्वपूर्ण अवसर प्रदान करते हैं, जैसे किः

  • जैव कीटनाशक समेकित कीट प्रबंधन प्रणालियों के साथ उपयुक्त हैं एवं पर्यावरण की दृष्टि से जिम्मेदार उत्पादन प्रणालियों में योगदान करते हैं।
  • जैव कीटनाशक अधिकतम अवशेष स्तर (एमआरएल) का प्रबंधन करने में उत्पादकों की सहायता करते हैं, जिससे उन  बाजारों में निर्यात करने के लिए अधिक अवसर पैदा होते हैं जहां एमआरएल का स्तर काफी कम कर दिया गया है।
  • उत्पादक उत्पाद - खरीदारों के साथ संबंधों को मजबूत कर सकते हैं क्योंकि वे जैव-कीटनाशकों के कारण फसल कटाई एवं परिवहन के समय में सुधार करते हैं।
  • जैव कीटनाशक, कार्बनिक उत्पादकों की अपनी प्रमाणित स्थिति को बनाए रखते हुए कीट को नियंत्रित करने में सहायता प्रदान करते हैं।

जैव-कीटनाशक उत्पाद, उत्पादकों के लिए कई चुनौतियां पेश करते हैं, जैसे किः

  • जैव  कीटनाशक अनुप्रयोगों के उचित समय के लिए फसलों की लगातार निगरानी आवश्यक है।
  • जैव कीटनाशक से परिचित एक सलाहकार के साथ मिलकर काम करने की आवश्यकता होती है।
  • परंपरागत कार्यक्रम रसायनों का उपयोग करते हैं जो एक ही बार में कई प्रकार के कीटों को मारते हैं। जैव-कीटनाशकों को अक्सर एक विशिष्ट कीट के लिए लक्षित किया जाता है, जिसका अर्थ है कि जैव कीटनाशक द्वारा नियंत्रित कीटों को मारने के लिए अन्य अनुप्रयोग जरुरी हो सकते हैं।

Authors:

सोनू कुमार महावर, नीरज कुमार, हरी सिंह मीणा, सुनील रामलिंग स्वामी एवं महेंद्र प्रसाद

वैज्ञानिक

भारतीय चरागाह एवं चारा अनुसंधान संस्थान, झाँसी -284 003

Email: This email address is being protected from spambots. You need JavaScript enabled to view it.