Symptoms, preservation and treatment of Hemorrhagic Septicemia - Krishisewa

Symptoms, preservation and treatment of Hemorrhagic Septicemia

गलघोटू (Hemorrhagic Septicemia ) एक घातक संक्रामक बीमारी है ! जो मुख्यत: गाय भैंस में मानसून के मौसम के दौरान होती है साधारण भाषा में गलघोटू रोग "घुरखा" , " घोटुआ " , " डहका " आदि के नाम से जाना जाता है ! यह रोग भेड़,बकरियों एवं सूअरों को प्रभावित करता है !

पशुओ के इस रोग में पशुपालको को अत्याधिक नुक्सान का सामना करना पड़ता है ! गलघोटू रोग के कारण पशुओ की मृत्यु दर अधिक होती है यह रोग छह से दो वर्ष की आयु के जानवरो में होती है !

गलघोटू रोग लक्षणगलघोटू रोग कारक : -

यह रोग 'पस्तुरिल्ला मल्टोसीदा" नामक जीवाणु से होता है ! गलघोटू रोग का जीवाणु अधिक आद्रता वाले मौसम में सक्रिय होता है ! और यह 2 से ३ सप्ताह तक मिट्टी एवं घास में सक्रिय रह सकता है !

गलघोटू रोग संक्रमण :-

यह रोग अस्वस्थ पशु से स्वस्थ पशु में उनके सांस एवं स्त्राव से फैलता है ! ख़राब पानी एवं संक्रमित भोजन कराने से पशुओ को यह बीमारी लग जाती है !

गलघोटू रोग लक्षण :-

गलघोटू रोग में अचानक से तेज़ बुखार {१०३ -१०५ } हो जाता है! ठण्ड लगने लगती है! ! अत्यधिक लार का बहना , आँखों में सूजन आना , गले में सूजन होने से सास लेते समय दर्द होता है! पशु खाना पीना बंद कर देता और पशु सुस्त हो जाता है ! समय पर इलाज न होने की वजह से पशु की मृत्यु हो जाती है ! नैदानिक संकेतो के शुरुआत में 6 से ४८ घंटो के बाद पशु की मृत्यु हो सकती है !

गलघोटू रोग की रोकथाम :-

  • गलघोटू रोग की पुख्ता जांच होने पर सर्वप्रथम संदेहात्मक वस्तु जैसे की दुघ एकत्र करने का पात्र , वाहन एवं अन्य यन्त्र को हल्के अम्ल क्षार या जीवाणु नाशक द्रव्य से साफ़ करना चाहिए !
  • प्रभावित क्षत्रो में वाहनों एवं पशु की आवाजाही पूर्णतयः रोक देना चाहिए ! 
  • अस्वस्थ पशु को स्वस्थ पशुओ से अलग स्थान पर रखना चाहिए ताकि रोग स्वस्थ पशुओ में ना फ़ैल सके।
  • गाय एवं भैस इस रोग के प्रति अधिक संवेदनशील है !
  • पशु आवास को स्वच्छ रखें रोग की संभावना होने पर तुरंत पशुचिकित्सक से संपर्क करें !
  • ०.५ % फिनाइल को १५ मिनट तक रखने पर इस रोग के जीवाणु मर जाते है !
  • जिस स्थान पर पशु मरा हो उस स्थान को कीटनाशक दवाइयों से धोना चाहिए ! 

गलघोटू रोग से बचाव

  • इस रोग से बचाव करने के लिए पशुओ का टीकाकरण एक मात्र उपाय है! वर्षा ऋतू से दो महीने पूर्व {मई - जून } में टीका लगा देना चाहिए !
  • पशुओ को उचित मात्रा में जगह प्रदान करें !
  • एक ही बाड़े में जरुरत से अधिक जानवर न रखें !
  • बाड़े को सूखा एवं साफ़ रखें !

हेमोरेजिक सेप्टिसेमिया टीकाकरणहेमोरेजिक सेप्टिसेमिया टीकाकरण : -

Haemorrhagic Septicaemia टीकाकरण करने से यह रोग बरसात के मौसम में नहीं फैलता, टीकाकरण से यह रोग नियंत्रित किया जा सकता है ! एक बार टीकाकरण से पशु में छह महीने से एक साल तक प्रतिरोधक क्षमता उत्पन्न हो जाती है ! यह वैक्‍सीन बाजार में रक्षा एच .एस , रक्षा एच.एस + बी.क्यू एवं रक्षा त्रयोवेक नाम से उपलब्ध है ! गाय तथा भैंस में मे वैक्‍सीन की  2 मिली मात्राा  त्वचा के नीचे दी जाती हैैै। ।

टीकाकरण अनुसूची -

पहली खुराक -  महीने की आयु के जानवरो को 
बूस्टर खुराक - प्रथम टीकरण के 6 महीने बाद
पुनः टीकाकरण - वार्षिक

गलघोटू रोग का उपचार :-

एंटीबायोटिक संवेदनशीलता परिक्षण विशेष रूप से आवश्यक है जिसके बाद ही पशु में एंटीबायोटिक दिया जाना चाहिए ! पेनिसिलिन , अमोक्सीसीलीन ,टेट्रासाइक्लिन आदि इस रोग के लिए प्रभावी एंटीबायोटिक दवा है


 


Authors
दीपिका तेकाम , निकिता सोनवणे
पशुपालन प्रसार विभाग, मुंबई पशुवैद्यकीय महाविद्यालय
Animal husbandry department, Bombay veterinary college
परेल, मुंबई [ ४०००१२]
Email: This email address is being protected from spambots. You need JavaScript enabled to view it.