Precautions in using antibiotics

आधुनिक एवं वैज्ञानिक खेती के युग में अधिक पैदावार लेने के लिए फसल सुरक्षा अति आवश्‍यक है कीटनाषी (Insecticide), फफूंदनाषी (Fungicides) एवं अन्य रसायन जो फसल सुरक्षा में प्रयोग होते हैं, प्राय: बहुत जहरीले व हानिकारक होते हैं। इन रसायनों का प्रयोग करते समय सावधानी रखना भी उतना ही आवष्यक हैं, जितना कि इनसे फसल सुरक्षा व अधिक पैदावार एवं अच्छी गुणवत्ताा वाली फसल लेकर अधिक लाभ उठाना।

फसलों की पैदावार में कमी होने के कई कारणो में से कीट व बिमारियाँ मुख्य भूमिका निभाते है। अधिक उत्पादन लेने हेतु बुआई से पूर्व बीजोपचार तथा बुवाई के उपरान्त कीट नियन्त्रण एवं समय-समय पर बीमारियों से बचाव हेतु विभिन्न रासायनिक दवाओं का प्रयोग किया जाता है। जिनमें से अधिकांश रसायन अति विषाक्त होते है। जितनी आवष्यकता इनके प्रयोग करने हैं उससे कहीं अधिक आवष्यकता इनके प्रयोग में सावधानी रखने की है।

जैवनाषकों (antibiotic) को निर्धारित मात्रा से अधिक या गलत तरीके से या  असावधानी से प्रयोग करने पर कई हानिकारक परिणाम हो सकते हैं। जैवनाषक रसायन न केवल मनुष्यों बल्कि पशुओं पक्षियों इत्यादि के लिए भी अति हानिकारक होते है।

इन जैवनाषक रसायनों के प्रयोग सें किसी भी प्रकार की दुर्घटना या हानि से बचने के लिए या इनका पर्यावरण पर कोई बुरा असर ना पड़ें इसलिए कुछ बातों का ध्यान रखने के साथ-साथ इनके प्रयोग के समय क्या-क्या सावधानियाँ बरतनी चाहिये, इनकी जानकारी भी किसानों को होना अति आवष्यक है। जैवनाषकों के घातक प्रभावों से बचने के लिए यह आवष्यक होता है कि उन पर लिखे हुए निर्देषों का पालन नियमानुसार किया जावे। जिनमें किसी भी प्रकार की लापरवाही न बरती जाए। इसलिए इनका प्रयोग करते समय हमें अत्यधिक सावधानी रखनी चाहिए।

जैवनाषकों की खरीददारी के समय सावधानियाँ :

  • कीट व रोग की पहचान व उसकी गम्भीरता के आधार पर सिफारिष किऐ गये जैवनाषक ही खरीदें।
  • इन जैवनाषक रसायनों के विषैलेपन की जानकारी को पैकिंग पर छपे बर्फीनुमा आकृति के रंगों से समझना चाहिए। लाल रंग सबसे अधिक विषैला तथा पीला, नीला व हरा रंग क्रमष: कम विषैले होते है। यथासम्भव सुरक्षित रसायनों का ही चयन करें।
  • जैवनाषकों के निर्माता, इनमें उपस्थित सक्रिय तत्व तथा निष्क्रिय तिथि को ध्यान में रख कर उसका अनुसरण करें। ताकि उपयोगकर्ता को ज्यादा पुराना नही दिया जावे।
  • जैवनाषक खरीदते, उनके भण्डारण व उपयोग करते समय बच्चों को शामिल नही करना चाहिए।
  • जैवनाषक जैवनाषक हमेषा मूल पैकिंग में ही खरीदने चाहिए। खुली पैकिंग वाला कीट व रोग नाषी कभी ना खरीदें।
  • जैवनाषकों के अनुसार ही जैवनाषकों की खरीदारी करें।
  • खरीदते समय साबुन की टिकिया व अंगोछा या तौलिया अवष्य खरीदें जिनका इन रसायनों का प्रयोग करने के बाद अलग से उपयोग कर सकें।
  • जैवनाषक अच्छा गुणवत्ताा का होना चाहिये। जिससे अधिक लाभ मिल सकें।

जैवनाषकों के प्रयोग से पहले सावधानियाँ :

  • जैवनाषक के प्रयोग करने से पहले पैकेट पर लेबल व दी गई निर्देष पुस्तिका अवष्य पढें।
  • केवल निर्धारित मात्रा में ही जैवनाषकों का प्रयोग करें।
  • जैवनाषकों के प्रयोग से पहले छिड़काव यंत्र की अच्छी तरह जाँच कर लें तथा पानी डालकर ताकी बाद में परिक्षण कोई रिसाव या परेषानी न हों।
  • घर में काम आने वाले बर्तनों को छिड़काव के लिए कभी भी इस्तेमाल नही करना चाहिए।
  • जैवनाषकों को पानी में हाथ से नही मिलाना चाहिए। बल्कि हाथों में दस्ताने पहनकर किसी लकडी की छडी से ही मिलाएं।
  • छिड़काव करते समय मुँह पर साफ कपड़ा या मास्क का होना अति आवष्यक है।
  • जहा तक संम्भव हो सकें अपने शरीर को कपड़ों से पूरा ढक कर छिड़काव करें।
  • शरीर पर किसी भी प्रकार का तेल या अन्य कोई भी पदार्थ लगाकर छिड़काव न करें।
  • छिडकाव करने से पहले देख लेवे की शरीर का कोई भाग चोटिल नही है। यदि चोटिल हो तो किसी दूसरे व्यक्ति से छिड़काव करावाये।
  • जैवनाषकों का प्रयोग एक ही छिड़काव यंत्र से कभी न करें उनके लिये अलग-अलग छिड़काव यंत्र का प्रयोग करे या छिडकाव यंत्र को अच्छी तरह पानी से साफ करके प्रयोग करे।
  • यदि बरसात या आंधी आने की संभावना हो तो जैवनाषकों का प्रयोग स्थगित कर देना चाहिऐं। छिड़काव के बाद अगर बारिष हो जाए तो फिर से छिड़काव कर देवे।

जैवनाषकों का प्रयोग करते समय रखी जाने वाली सावंधानियॉ:-

  • जैवनाषक के डिब्बों को ऑंखों व नाक से दूर रखकर खोलें।
  • जैवनाषकों का प्रयोग करते समय उचित परिधान उपयोग में लें।
  • बीज उपचार करते समय हाथों में दस्तानों पहनने आवष्यक है। उपचारित बीज को छाया में सुखायें और इसे बाकी अनाज से अलग रखें । बीज उपचार बिजाई से 1-2 दिन पहले कर लेना चाहिए।
  • दानेदार जैवनाषक प्रयोग करते समय हाथों में दस्ताने पहनना अति आवष्यक है। इन कीट व रोगनाषकों का केवल निर्धारित मात्रा के अनुसार ही प्रयोग करें। ज्यादा मात्रा का प्रयोग करने से यह पौधों पर हानिकारक प्रभाव दिखाते है।
  • जैवनाषका रसायनों का भुरकाव व छिड़काव सुबह के समय करना अति प्रभावी होता है। क्योंकि सुबह वातावरण नम रहता है।
  • जैवनाषकों का छिड़काव करते समय यह ध्यान रखें की ये रसायन पदार्थ शरीर के किसी भाग पर नही गिरना चाहिए।
  • जैवनाषकों का छिड़काव करते समय कम से कम एक आदमी को साथ रखे कभी भी अकेले छिड़काव नही करें।
  • शराब व अन्य नषीले पदार्थो का सेवन करके छिड़काव न करें।
  • जैवनाषकों को घर या पषुओं के रहने के स्थान पर न मिलाएं बल्कि खेत में सुरक्षित स्थान पर ही मिलाए।
  • छिड़काव यंत्र को ऊपर तक पूरा न भरें, बल्कि कुछ भाग खाली रहने दे।
  • जैवनाषकों का छिड़काव करते समय नाक व मुंह को किसी साफ कपड़ें से ढक ले एवं ऑंख पर चष्मा लगा लेवे।
  • जैवनाषकों का छिड़काव करते समय कपडों के ऊपर स्प्रे ओवर कोट का प्रयोग करना चाहिए।
  • जैवनाषकों का छिड़काव करते समय धूम्रपान, तम्बाकू चबाना या अन्य खाद्य पदार्थो का सेवन न करें, ये सभी करने से पहले छिड़काव यन्त्र को एक तरफ रखकर साबुन से हाथ मुंह धो लें।
  • जैवनाषकों रसायनों का छिड़काव व भुरकान करते समय छिड़काव करने वाले व्यक्ति को वायु की दिषा के साथ साथ चलना चाहिए। ऐसा करने से रसायन उसके ऊपर नहीं गिरेगा।
  • जैवनाषकों का छिड़काव करने के बाद गाय-भैंस का दुध नही निकाले उससे पहले अपने हाथों को साबुन से अच्छी तरह धोना चाहिए।

कीट व रोगनाषक छिड़काव के बाद की सावधानियाँ

  • जैवनाषक के छिड़काव के बाद साबुन से भली-भॉति स्नान करना चाहिए तथा छिड़काव करते समय प्रयोग किये गये परिधानों को भी साबुन से अच्छी तरह धो ले।
  • जैवनाषकों का छिडकाव करते समय थोडी मात्रा स्टीकर (जैसे गोर, साबून) सुबह या शाम को ही करना चाहिए।
  • छिडकाव के बाद बचे हुए जैवनाषकों को मूल पैकिंग मे ढक्कन बंद करके सुरक्षित स्थान पर बच्चों की पहुॅच से रखें।
  • जैवनाषकों के छिड़काव के बाद छिड़काव यंत्र को पानी से धो कर साफ करें एवं सुखा कर रखे।
  • जैवनाषकों के छिड़काव के बाद कोई तकलीफ महसूस हो तो घरेलू उपाय अपनाकर तुरंत डॉक्टर की सलाह ले तथा उपचार करवाएं।
  • जैवनाषकों के खाली डिब्बों को जला दें या इनके छोटे-छोटे टुकडें करके पीने के पानी के स्त्रोत से दूर किसी अन्य जगह पर दबा दें। प्लास्टिक व धातु के डिब्बे या ड्रमों को दो या तीन बार पानी से धोयें तथा बाद में तोड़कर चपटा बनाकर पानी के स्त्रोत से दूर जमीन में दबा दें।
  • थोडी मात्रा में बचे हुऐ जैवनाषकों को किसी अन्य स्थान पर पानी के स्त्रोत से दूर या खेत में एक तरफ गड्डे में डालकर डिब्बे को भी तोड़कर दबा दें।
  • उपचारित खेतों में से कुछ दिनों तक चारा, सब्जी इत्यादि का प्रयोग ना करें।
  • उपचारित खेतों में बैठ कर कुछ दिनों तक खाना पीना ना करें।
  • छिड़के गये जैवनाषकों का ब्योरा लिखकर रख लेना चाहिए।
  • जैवनाषकों को छिड़कने के बाद उस जगह किसी मनुष्य व जानवर को नही जाने देना चाहिए।

जैवनाषकों का भण्डारण

  • जैवनाषकों को हमेषा ठण्डे हवादार सूखे व खाली कमरे में बच्चों की पहुॅच से बाहर ताला लगा कर रखे ।
  • जैवनाषकों को अलमारी में अलग-अलग खानों में लेबल लगा कर रखें ताकि गलती से उनका उल्टा-पुल्टा प्रयोग न हो सकें, तथा आसानी से ढूंढा जा सकें।
  • जैवनाषकों का भण्डार रसोई या सोने के कमरे में नही करना चाहिए।
  • कीट व रोगनाषक को रिहायषी स्थान, पशु, चारे व पालतू जानवरों से दूर बंद कमरे में रखें।
  • कीट व रोगनाषक को खुले कमरे, टपकती छत, टीन या एसबैस्टस की छत वाले कमरे में न रखे।
  • कीट व रोगनाषक को किसी अन्य बोतल या डिब्बे में भण्डारण ना करें, इन्हें मूल पैकिंग में ही रखें।
  • कीट व रोगनाषकों को पहचानने के लिए उन्हें सूंघना या चखना नहीं चाहिए बल्कि उन पर लिखे लेबल को पढकर उसकी पहचान करना चाहिए।

इस तरह उपरोक्त सावधानियों को ध्यान में रखते हुए यदि रसायनों को प्रयोग किया जाये तो इनसे होने वाले हानिकारक दुष्प्रभावों से बचा जा सकता है।


Authors:

डॉ. रेखा कुमावत, डॉ. कविता कुमावत, डॉ. शैलेष गोदीका एवं  डॉ. रवि प्रकाश नागा, डॉ. सीता राम यादव

श्री कर्ण नरेन्द्र कृषि विष्वविद्यालय, जोबनेर, जयपुर (राज.) - 303329

This email address is being protected from spambots. You need JavaScript enabled to view it.