Main pulse crop of dry land - Moth bean - Krishisewa

Main pulse crop of dry land - Moth bean

मोठबीन  [विग्ना एकोनिटीफोलिया]  फैबेसी परिवार का एक प्रमुख संभावित दलहन है जिसकी क्रोमोजोम संख्या २एन =२२ है। अरोड़ा और नायर (१९८४) के अनुसार  दक्षिण एशियाइ क्षेत्र  मोठबीन  का उद्गमस्थल है।

दुनिया के विभिन्न स्थानों में  मोठबीन  को मटकी एवं  तुर्की ग्राम के रूप में भी जाना जाता है। यह पश्चिमी भारतीय उपमहाद्वीप के सूखा और गर्म क्षेत्रों में बोया जाता है ।  मोठबीन  १५ विग्ना प्रजातियों के बीच उच्चतम गर्मी सहिष्णुता दर्शाती है, यह १२ दिनों के लिए ३६ डिग्री सेल्सियस और ४० डिग्री सेल्सियस तापमान ११ दिन तक सहन कर सकने में कामयाब है, इसके विपरीत अन्य सभी विग्ना प्रजातियां ४० डिग्री सेल्सियस में मृत हो जाती हैं।

राजस्थान, गुजरात और महाराष्ट्र जैसे राज्यों में लगभग १६.२ लाख हेक्टेयर क्षेत्र और ७.९ लाख टन उत्पादन के साथ ४८६ किलो / हेक्टेयर की औसत उपज है। अकेले राजस्थान क्षेत्र (१३.६ लाख हेक्टेयर) और उत्पादन (३.७ लाख टन) में ९५ फीसदी से अधिक का योगदान देता है। इस फसल का वितरण ३०° उत्तर  और ३०° दक्षिण के बीच मैदानी इलाकों या बहुत कम ऊंचाई तक सीमित है। 

इसे कई प्रकार की मिट्टी में उगाया जा सकता है लेकिन हल्की मिट्टी में सबसे अच्छा होता है। मटकी की खेती का दायरा शुष्क क्षेत्रों के लिए सीमित है, जहां मौसमी वर्षा २५० से ५०० मि०मी० तक होती हैं।

मोठबीन  पौधों की  लम्बाई  आमतौर पर १५-४० सेंटीमीटर होती  है, शॉर्ट इंटरनोड होता है। प्राथमिक शाखाएं  १.५ मीटर के बराबर होती हैं। फूल पैपलोनोसियस और २-६ सेंटीमीटर  लंबे होते हैं, फली पीले भूरे रंग की  होती  है, प्रत्येक फली में मुख्यतः ४-१० बीज होते हैं।

गहरी और तेज मर्मज्ञ जड़ प्रणाली के साथ  मोठबीन , खुले मैदानों, जो उच्च वायुमंडलीय तापमान के साथ कम नमी वाली मिट्टी से ग्रसित होते है उसमे भी 30-40 दिन तक जीवित रह सकते है। इन बहु-अनुकूली और समायोजन विशेषताओं ने रेत की टीलों की एकमात्र वैकल्पिक वार्षिक फसल के रूप में  मोठबीन  को बढ़ाया है, जिसमें कृषि वैज्ञानिक देखभाल की आवश्यकता कम होती  है।

मोठबीन  शुष्क क्षेत्रों में कृषि-बागवानी, सिल्वि-देहाती, कृषि-वानिकी, मिश्रण-फसल या इंटरक्रॉपिंग के प्रमुख घटक के रूप में प्रचलित और आम है। उत्पादकता क्षमता में कमी और पक्षियों द्वारा होने वाला नुकसान के कारण इसकी हिस्सेदारी तीव्रता से कम हो रही है।

मोठबीन के सूखे या अंकुरित बीज को सामान्य भोजन एवं सब्जी बनाने में कई तरह से पकाया जाता है, जबकि अधिकतर दाल के रूप में प्रयोग किया जाता है। ताजा हरी फली का उपयोग सब्जियों के रूप में किया जाता है या भविष्य में उपयोग के लिए सुखाया जाता है। प्रोटीन, आवश्यक अमीनो एसिड और खनिजों में समृद्ध होने के कारण  मोठबीन  को मानव आहार और पशु चारा में  एकीकृत करने से पोषण संतुलित होता है।

तालिका 1.  मोठबीन का अखिल भारतीय क्षेत्रफल,उत्पादन और उपज (वर्ष २०११ -१२ से  २०१४ -१५

वर्ष

क्षेत्रफल

(लाख  हेक्टेयर)

  उत्पादन

(लाख टन / हेक्टेयर) 

उपज

(क्विंटल / हेक्टेयर)

२०११ -१२ 

१३१८१५७ 

४४७१७९

३.३९  

२०१२ -१३ 

 ८६३९२७ 

२३६२३४   

२.७३

२०१३ -१४ 

९२७३१२ 

२६७३९२

२.१५

२०१४ -१५ 

८६८९१४

३४११७७ 

३.९३


मोठ बीन का पोषण में महत्व

मोठबीन देश के शुष्क और अर्ध शुष्क क्षेत्रों के लोगों के आहार का एक महत्वपूर्ण घटक है। भोजन के रूप में इसका मुख्य योगदान इसकी प्रोटीन मात्रा पर आधारित होता है। यह केवल शाकाहारी प्रोटीन का स्रोत नहीं है, बल्कि उन लोगों के लिए आवश्यक पूरक भी है जिनके आहार अनाज आधारित है।  मोठबीन  प्रोटीन, दो आवश्यक अमीनो एसिड, लाइसिन (५.७७ %) और ट्रिप्टोफैन (३.२३ %) में अपेक्षाकृत समृद्ध है, जो कि अनाज में काम पाया जाता है।

  1. यह प्रोटीन और कैल्शियम का एक बढ़िया स्त्रोत है, जो आपको भरपूर मात्रा में फाइबर भी देता है। इतना ही नहीं यह विटामिन्स और मिनरल्स का भी अच्छा स्त्रोत है।
  2. इसमें मौजूद जिंक आपके इम्यून पावर को बढ़ाता है, साथ ही यह शरीर को तनाव के कुप्रभावों से भी बचाता है।
  3. मोठ का सेवन करना मांसपेशियों के लिए  फायदेमंद है। मांसपेशियों के विकास में सहायक होने के साथ ही यह वसा को कम करने में भी मददगार है।
  4. चूंकि यह फाइबर से भरपूर होती है, अत: यह आपको कब्ज की समस्या से बचाती है और पाचन तंत्र को सुरक्षित व स्वस्थ रखती है।
  5. कोलेस्ट्रॉल का स्तर कम करने का गुण होने के कारण यह ब्लडप्रेशर की समस्याओं में भी फायदेमंद है। हाई ब्लडप्रेशर में यह लाभकारी है।

तालिका .  मोठबीन के पोषक तत्वों का सारणी प्रस्तुति

नमी

%

प्रोटीन

%

ऐश

%

फैट

%

स्टार्च

%

कुल घुलनशील शर्करा

%

फोलिक एसिड

µg/१००ग्राम

कैरोटीनॉयड

µg/१००ग्राम

लोह तत्व

मि०ग्रा०/१००ग्राम

ज़िंक

मि०ग्रा०/१००ग्राम

८.१४

१९.७५

३.१४

१.७६

४६.६

३.१८

३४९

६२२

७.९

१.९२

(स्रोत: भारतीय खाद्य रचना तालिका २०१७)

उत्पादन की समस्याएं

खेती के लिए विकसित होने वाली मोठबीन की अधिकांश किस्में भू-प्रजाति से चयनित हैं, जो कम उर्वरता और खराब प्रबंधन के तहत इंटरक्रॉपिंग की शर्तों के अनुकूल हैं। विभिन्न वैज्ञानिकों ने थर्मोसेन्सिटिविटी, निर्धारित विकास की आदत, तुल्यकालिक परिपक्वता, फली की कमी, कॉम्पैक्ट/ अर्ध-सीधा विकास, कीड़े-कीट और रोगों को प्रमुख बाधाओं में सूचीबद्ध किया है जो उपज में कमी और अनिश्चितता के लिए जिम्मेदार हैं।

सफेद मक्खी  के माध्यम से प्रेषित पीला मोज़ेक वायरस एक गंभीर बीमारी है जिसके कारण १००% तक हानि हो सकती है।

बैक्टीरियल लीफ स्पॉट, पाउडरी  मिल्ड्यू और मेलोइडोगीन इन्कॉग्नीटा द्वारा जनित रूट-गाँठ नेमेटोड  मोठबीन के कुछ प्रमुख रोग हैं।

उपरोक्त कारकों से बचाव करने के लिए प्रजनन प्रयास किए जाने चाहिए, जो कि पैदावार को स्थिर बनाने और विभिन्न जीनों के नए जीनोटाइप के अनुकूलन को बढ़ाने में मदद कर सकता है।

आनुवंशिक संसाधन प्रबंधन और उपयोग

भारत में मोठबीन जननद्रव्य को राजस्थान, गुजरात, महाराष्ट्र, कर्नाटक, पश्चिमी उत्तर प्रदेश, पंजाब, हरियाणा और मध्य प्रदेश के राज्यों से काफी हद तक एकत्र किया गया है और एनबीपीजीआर, नई दिल्ली  ने करीब २००० से अधिक जननद्रव्य एकत्रित किए हैं।

मोठबीन के संग्रह में  पत्ती स्थान, फली और बीज रंग में विविधता प्राप्त करते हैं। राजस्थान और गुजरात से प्राप्त संग्रह अधिक आशाजनक लगते  है।

दक्षिण और दक्षिण-पूर्व एशिया के कई देशों में अन्वेषण और संग्रह प्रयास किए गए और बड़ी संख्या में जननद्रव्य को फिलीपींस, इंडोनेशिया और चीन में और जापान, नेपाल और श्रीलंका के कुछ हिस्सों में एकत्रित किया गया है।

जननद्रव्य का लक्षण वर्णन और मूल्यांकन किया गया है। इन प्रकारों में नोड्यूलेशन और नाइट्रोजन गतिविधि में व्यापक विविधता देखी गई। ओमवीर और सिंह (२०१५) ने पौधे की ऊंचाई (सेमी), फली की लम्बाई (सेमी), पेडुन्कल लम्बाई (सेमी), पौधों की संख्या में शाखाओं की संख्या के लिए विविधता रिपोर्ट की।         


Authors:

कुलदीप त्रिपाठी, गयाचरण, राकेश भारद्वाज एवं अशोक कुमार

भाकृअनुप-राष्ट्रीय पादप अनुवांशिकी संसाधन ब्यूरो, नई दिल्ली

Email:This email address is being protected from spambots. You need JavaScript enabled to view it.